उत्तर प्रदेश के ये नए सांसद पहले जेल जाएंगे, फिर करेंगे संसद भवन के दर्शन...!

उत्तर प्रदेश की घोसी लोकसभा सीट से सांसद निर्वाचित हुए गठबंधन के दावेदार अतुल राय को संसद में जाने से पहले दुष्कर्म के विषय में जेल जाना पड़ेगा। दरअसल आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा अतुल राय की गिरफ्तारी पर रोक की मांग वाली याचिका खारिज कर दी गई है। इस कारण से माननीय सांसद चुने जा चुके अतुल राय की की गिरफ्तारी तय है। वहीं लंका पुलिस ने कोर्ट में अर्जी देकर अतुल राय की संपत्ति कुर्क करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

जानिए पूरा विषय


आपको बता दें कि मूल रूप से गाजीपुर में भांवरकोल क्षेत्र में वीरपुर गांव निवासी बसपा नेता अतुल राय बनारस में रहकर ठेकेदारी करते रहे हैं। कुछ दिनों पहले यूपी कॉलेज की एक पूर्व छात्रा ने अतुल राय के खिलाफ एक मई को लंका थाने में तहरीर देकर दुष्कर्म का केस दर्ज कराया था। युवती का आरोप है कि पिछले वर्ष मार्च में अतुल ने उसे लंका के अपने फ्लैट में बुलाकर दुष्कर्म किया और वीडियो बनाकर ब्लैकमेल भी करते रहे। इस मामले में लंका पुलिस ने कोर्ट से गैर जमानती वारंट प्राप्त करने के बाद गाजीपुर, मऊ, लखनऊ, बलिया तक छापेमारी की किन्तु अतुल पकड़ में नहीं आए।

वहीं विदेश भागने की आशंका के चलते सभी हवाई अड्डों को लुक आऊट नोटिस जारी किया गया। पुलिस की अर्जी पर अदालत से सीआरपीसी की धारा 82 के तहत कुर्की की नोटिस जारी हो चुकी है। कुछ दिन में पुलिस कुर्की का भी आदेश ले सकती है।

नामजद मुकदमा लिखे जाने के बाद से हैं फरार


इसी बीच गुरुवार को जारी लोकसभा चुनाव के नतीजों में अतुल राय घोसी सीट से बतौर गठबंधन उम्मीदवार सांसद चुने गए हैं। नामजद मुकदमा लिखे जाने के बाद से अतुल फरार हैं और सांसद निर्वाचित होने से भी उन्हें कोई राहत नहीं मिलने वाली है। दरअसल सुप्रीम कोर्ट द्वारा उनकी गिरफ्तारी की रोक की मांग वाली याचिका खारिज कर दी गई है. जिसके बाद संसद में जाने से पहले उनकी गिरफ्तारी तय मानी जा रही है।

जल्द कुर्की की कार्रवाई करेगी पुलिस


वहीं एसएसपी आनंद कुलकर्णी का कहना है कि दुष्कर्म के मुकदमे के आरोपी अतुल राय की गिरफ्तारी की भरसक प्रयास की जा रही है। सांसद के विशेषाधिकार या जो भी सुविधाएं हो सकती हैं वो पकड़े जाने के बाद का विषय है, अभी तो पुलिस कानूनी प्रक्रिया के तहत गिरफ्तारी पर पूरा जोर दे रही है। जल्द कोर्ट में हाजिर नहीं हुए या पकड़ में नहीं आए तो कुर्की की कार्रवाई की जाएगी. ऐसे में तय है कि सांसद अतुल राय को संसद जाने से पहले जेल की हवा खानी पड़ेगी। वहीं वाराणसी कोर्ट में अतुल राय ने 17 मई को आत्मसमर्पण की अर्जी दी थी जिसपर लंका थाने से 28 मई को विषय की आख्या भी मांगी गई है।

दिल्ली में गिरफ्तार करने का प्रयास करेगी पुलिस


सांसद चुने जाने के बाद अतुल राय की दिल्ली में उपस्थिति की आशंका को देखते हुए दिल्ली पुलिस की सहायता भी ली जा सकती है। संभावना है कि अतुल शपथ ग्रहण समारोह में उपस्थित होने जाएं तब उन्हें दिल्ली में गिरफ्तार करने का कोशिश पुलिस जरूर करेगी।
Loading...