महिलाएं भूल से भी न करें यह गलती, इसी वजह से सोनाली बेंद्रे को हुआ था कैंसर...!

पिछले वर्ष बॉलीवुड अभिनेत्री सोनाली बेंद्रे को कैंसर होने की खबर आई थीं। सोनाली बेंद्रे ने अपने ट्विटर एकाउंट से जानकारी साझा की थी कि उन्हें हाई ग्रेड कैंसर है जो अब मेटास्टेरॉइज्ड हो गया है यानी कि इसका प्रभाव शरीर के अन्य अंगों पर पड़ने लगा है। सोनाली बेंद्रे ने न्यूयॉर्क में इलाज कराया और अब वो काफी ठीक हो चुकी हैं। अब ये पढ़ने के बाद आप सोच रहे होंगे कि मेटास्टेरॉइज्ड कैंसर आखिर होता क्या है। तो आज हम आपको बताएंगे कि मेटास्टेरॉइज्ड कैंसर वास्तव में है क्या।

loading...
आपको बता कि कैंसर का प्रभाव शरीर के जिस हिस्से पर पहले पड़ता है उसे प्राइमरी स्पॉट कहते है। उसके बाद धीरे धीरे जब यह कैंसर फूटता है तो कैंसर कोशिकाएं टूटकर रक्त के जरिये शरीर के अन्य भागो में पहुंचती है और कैंसर अन्य हिस्सों में फैलने लगता है जिसे हम मेटास्टेटिक कैंसर कहते है। कैंसर की ये कोशिकाएं जब शरीर के अन्य हिस्सों में पहुंचकर ट्यूमर बनाना शुरू करते हैं तो इस प्रकार के ट्यूमर को मेटास्टेटिक ट्यूमर कहा जाता है।

महिलाएं रखे इन बातों का ध्यान


ध्यान रहे कि आप प्रतिदिन फल औऱ सब्जियों का सेवन अवश्य करे जिससे स्तन कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है। दूसरा तरीका यह है कि यदि कोई नित्य व्यायाम करता है तो कैंसर का खतरा कम हो सकता है. एक अध्ययन के अनुसार प्रत्येक सप्ताह 75 से 150 मिनट का ब्रिस्क वॉक इस खतरे को कम कर सकता है. जो महिलाएं अपने अपनो बच्चों को स्तनपान कराती है उन्हें कैंसर होने का खतरा काफी कम होता है।

अगर आपको भी बैकपेन होता है ध्यान रहे कि आपको भी ये गम्भीर बीमारी हो सकती है। और यदि स्त्रियों का पेट दर्द भी होता है तो उन्हें इसके प्रति सचेत रहना चाहिए ऐसे दर्द होने पर रोगी को तुरन्त चिकित्सक की सुझाव लेनी चाहिए। मासिक चक्र में अनियमितता भी इस भयानक मुसीबत का वजह हो सकती है।