109 साल के प्रेमदास अब छोड़ गए 66 लोगो का परिवार, संयुक्त परिवार की मिसाल..!

आज के दौर में जहां एकल परिवारवाद हावी है। इसके उलट मावली क्षेत्र में संयुक्त परिवार का प्रचलन जारी है। विशेष बात ये है कि तकरीबन छह पीढिय़ां इसे बरकरार रखे हुए हैं। यहां जिक्र कर रहे है लदानी ग्राम पंचायत में रहने वाले प्रेमदास वैष्णव की। जिन्होंने बुधवार को 109 वर्ष की उम्र में अन्तिम सांसे ली। संभवत: प्रेमदास मावली विधानसभा क्षेत्र में सबसे उम्रदराज व्यक्ति थे। वे मुख्यत: कृषि कार्य से जुड़े थे।

loading...
परिवार के राजूदास वैष्णव ने बताया कि उनके दादा प्रेमदास परिवार में सबसे अग्रज माने जाते थे। उन्होंने इसी साल 109 वर्ष पूरे किये थे। प्रेमदास की पत्नी तुलसी बाई भी की आयु तकरीबन 102 वर्ष है। प्रेमदास एवं तुलसीबाई की 6 संतानें हैं। जिनमें पुत्र भंवरदास, मांगीदास, माधुदास, अमृतदास तथा पुत्री भंवरी बाई एवं मोहनी बाई है।

प्रतिदिन दो घण्टे करते थे गांव का भ्रमण 

प्रेमदास प्रतिदिन जल्दी उठकर दो घंटे गांव का भ्रमण करते थे। खेतों में भी जाते थे। अपने से कम आयु के ग्रामीणों एवं बच्चों से बातचीत करते थे। उनका बच्चों एवं प्रकृति से बहुत लगाव था।

खुशहाल जीवनयापन कर रहा था दम्पती


तुलसीबाई एवं उनके पुत्रों ने बताया कि दम्पती दैनिक कार्यो में एक दूसरे की सहायता करते थे। साथ ही दोनों पूरे परिवार को वक़्त वक़्त पर स्नेह के साथ उचित कार्य के लिए भी निर्देशित भी करते रहते थे। परिवार की ओर से कोई भी कार्यक्रम हो। इन दोनों के मतानुसार व्यवस्थित किया जाता था।

वर्तमान में चल रहीं है छठीं पीढ़ी, 66 सदस्य है परिवार में
परिजनों के मुताबिक प्रेमदास की वर्तमान में छठीं पीढी चल रहीं है। जिसमें प्रेमदास के पुत्र-पुत्रियां, पोते-पोतियां, दोहता-दोहती, पड़पोते-पड़पोतियां, पड़दोहता-पड़दोहती सम्लित है। प्रेमदास के पुत्रों एवं पुत्रियों की आयु भी 80 वर्ष से ज्यादा पार कर चुकी है। प्रेमदास के परिवार में कुल 66 सदस्य है।

स्वास्थ्य का राज था सात्विक भोजन

राजूदास बताते है कि प्रेमदास शुरू से ही प्रतिदिन सुबह 5 बजे उठते थे। इसके बाद दैनिक दिनचर्या से निवृत होकर अपने कार्यों में जुट जाते थे। प्रेमदास की सेहत का राज सात्विक भोजन था। जिसके कारण प्रेमदास ने 109 वर्ष पूरे किए।

Loading...