दिल्ली में मेट्रों और बसों में अब महिलाएं करेगी फ्री में सफर, किन्तु गरीब आदमी को लगेगा पूरा पैसा..!

भारत की राजधानी दिल्ली में आने वाले साल में होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर के पार्टियों ने अपनी तैयारिया शुरू कर दी है। बता दें कि आने वाले साल में अपनी जीत के लिए आप पार्टी सरकार ने कई ऐसे घोषणा किए हैं, जिनसें वो दिल्ली वासियों का दिल जीतने में सफल हो सकते हैं। बता दें कि दिल्ली में बढ़ रही महिलाओं की सुरक्षा के चलते आप सरकार ने कई ऐसे काम किए हैं जिनसे दिल्ली की महिलाएं खुद को वहां पर महफूज पा सकें।
बता दें कि आप सरकार ने इस बार जो योजना लेकर के आए हैं उसमें सबसे अधिक तरहीज दिल्ली की महिलाओं को मिलने वाली है। सरकार ने महिलाओं के लिए मेट्रो और डीटीसी बसों में फ्री यात्रा का तोहफा दिया है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज (सोमवार) प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसका घोषणा किया। अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि दिल्ली में महिलाएं स्वयं को असुरक्षित महसूस करती हैं, जिसके चलते उनकी सरकार ने ऐसे 2 फैसले लिए हैं जिससे वो खुद को दिल्ली में महफूज समझ सकें।

loading...
बता दें कि दिल्ली सरकार ने दिल्ली मेट्रो और डीटीसी बसों में महिलाओं को किराए से निजात दिलाने के लिए नि:शुल्क यात्रा का निर्णय किया है, इससे उन्हें सार्वजनिक परिवहन के इस्तेमाल के लिए प्रोत्साहन मिलेगा। वहीं महिलाओं को इस फ्री यात्रा देने में डीएमआरसी को होने वाले हानि की भरपाई दिल्ली सरकार स्वयं से करेगी।बता दें कि जिस तरह से दिल्ली सरकार ने पानी और बिजली के बिल में सब्सिडी लाए थे उसी तरह से मेट्रों और बसों में सफर करने के लिए भी सब्सिडी जैसी योजना लाई गई है। केजरीवाल ने कहा कि सक्षम महिलाएं चाहें तो टिकट खरीद सकती हैं।

उन्हें सब्सिडी का प्रयोग न करने के लिए प्रेरित किया जाएगा। केजरीवाल ने बताया कि इस योजना को लागू करने में दो से तीन महीने का समय लगेगा, जिसके बाद ये सेवा शुरू कर दी जाएगी। वहीं इसी के साथ दिल्ली सरकार ने महिलाओं की सुरक्षा के लिए दिल्ली भर में डेढ़ लाख सीसीटीवी कैमरे लगने का टेंडर दिया था। और इसकी कोशिश वो बीते ढ़ाई साल से कर रहे हैं। जहां 70 हजाप सीसीटीवी का सर्वे हो चुका है। केजरीवाल ने कहा कि 8 जून से कैमरे लगेंगे और दिसंबर तक लगने की उम्मीद है।

बता दें कि बसों और मेट्रों में जितने यात्री यात्रा करते हैं उनमें 33 फीसदी महिलाएं होती है। इसके अनुसार से मेट्रो में महिलाओं के मुफ्त सफर पर लगभग एक हजार करोड़ प्रतिवर्ष का खर्च आएगा जबकि बसों पर ये खर्च करीब 200 करोड़ रूपए तक होगा, जिसका भुगतान दिल्ली सरकार करेगी। ऐसा अमुमान लगाया जा रहा है कि इस फ्री सेवा के बाद सरकार पर प्रतिवर्ष लगभग 1200 करोड़ रुपये का बोझ पड़ेगा। इस सुविधा को लागू करने में आने वाले खर्च की भरपाई दिल्ली सरकार करेगी। बता दें कि दिल्ली सरकार ने इस सेवा को लागू करने के लिए दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी)  के अधिकारियों के साथ बैठक की और उनसे पूछा है।