मां-बाप ने कर लिया दूसरा विवाह और बच्चों को रखने से कर दिया मना, सड़क पर भटकने लगे बच्चे..!

कहावत है कि पुत्र भले की कुपुत्र हो जाए किन्तु माता कभी कुमाता नहीं होती और पिता जो बच्चों की उंगली थामे रहता है चाहे जैसी भी परिस्थिति रहे, बच्चो को दो वक्त के निवाले के लिए कुछ भी कर गुजरता है। किन्तु बदलते दौर के साथ ये कहावत बदलती जा रही है, और गाजियाबाद के मुरादनगर से जो तस्वीर सामने आई है वो इस बात की तस्दीक भी करती है। दरअसल एक ऐसा विषय सामने आया है जो आपको सोचने पर मजबूर कर देगा और आपके आंखे भर आएंगी। जहां मां-बाप के झगड़े की सजा बच्चों को भुगतनी पड़ रही है।

loading...
दरअसल विषय मुरादनगर के जलालाबाद गांव का हैं जहां के रहने वाले एक पति-पत्नी में अक्सर झगड़ा होता था। जिसकी कारण से उन्होंने अलग होने का निर्णय किया। दोनों के दो बच्चे हैं जिसमें से एक की आयु 5 वर्ष और दूसरे की 8 वर्ष है। किन्तु बच्चों को मोह त्याग कुछ दिन बाद दोनों अलग होकर अलग-अलग शादी कर ली। किन्तु विषय यहां नहीं खत्म हुआ। अब देनों में से कोई भी बच्चों को साथ रखने को तैयार नहीं।

जानकारी के अनुसार पुलिस ने बताया कि जलालाबाद गांव निवासी योगेंद्र की विवाह कुछ वर्षों पहले पूनम के साथ विवाह हुई थी। किन्तु लगभग 6 महीने पहले योगेंद्र और उसकी पत्नी पूनम की किसी बात को झगड़ा गया। गुस्से में पूनम अपने दोनों बच्चों को साथ लेकर घर छोड़ कर चली गई। कुछ समय बाद पूनम ने दूसरे युवक के साथ विवाह कर ली। इस बीच उसके पति ने भी दूसरी विवाह कर ली।

जब नवजात एकाएक पहुंचा थाने तो पुलिसकर्मी भी रह गए दंग


कुछ दिन बाद जब पूनम के दूसरे पति ने बच्चों को रखने से मना कर दिया तो वह दोनों बच्चों को पहले पति के पास छोड़कर चली गई। किन्तु उसने भी बच्चों को रखने से मना कर दिया। आलम ये रहा कि दोनों बच्चे सड़क पर आ गए और भटकने लगे। इस बीच गाव वालों ने पुलिस को सूचना दी। जिसके बाद इन बच्चों को चाइल्ड लाइन संस्था को सौंप दिया गया।