ये है विश्व की पहली पीएचडी डिग्री प्राप्त की औरत, जानिए इनके बारे में विशेष बातें...!


सर्च इंजन गूगल ने हर बार की तरह इस बार भी एक जानी मानी हस्ती के जन्मदिन पर अपने होमपेज पर डूडल बनाया हैं। डूडल में किताब पढ़ती एक स्त्री की फ़ोटो हैं। दरअसल ये स्त्री हैं एलेना कॉर्नारो पिस्कोपिया। एलेना विश्व की पहली पीएडी प्राप्त की स्त्री हैं और आज उनका 373वां जन्मदिन हैं।वे हेलेन कॉर्नारो के नाम से भी जानी जाती हैं। अपनी पीएचडी के साथ साथ उन्हें एक दार्शनिक रूप में भी पहचान मिली हैं।

खेती करती थी एलेना की मां


loading...
भाषा विज्ञान और संगीत जैसे विषयों पर भी एलेना ने कई उदाहरण पेश किए हैं। 5 जून 1646 को इटली के वेनिस में पैदा हुईं एलेना मे 1678 में अपनी पीएचडी की डिग्री प्राप्त की। एलेना कि मां का नाम जानेटा बोनी और पिता का नाम कॉर्नारो पिस्कोपिया था। उनकी मां खेती करती थीं और एक एक भुखमरी के चलते उन्हें शहर का रुख करना पड़ा।

पढ़ाई में तेज और प्रतिभाशाली थीं एलेना


एलेना के जन्म के काफी दिन बाद 1954 में उनके माता पिता ने विवाह की और बाद में वे राजवंश परिवार का हिस्सा बन गईं। पढाई में तेज और प्रतिभा की धनी एलेना ने केवल 7 साल की उम्र में लेटिन, ग्रीक, फ्रेंच और स्पेनिश सीख ली थीं। इसके बाद वे हर्ब्रू और अरबी में भी पडांगत हुई तो उनको 'ओराकुलम सेप्टिलिंगु' की उपाधि मिली। गणित, फिलॉस्फी और रिलीजन के बावजूद वे संगीत में भी काफी दिलचस्पी रखती थीं। एलेना एक दो नहीं बल्की कई म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट बजाना जानती थीं। इसके साथ ही भौतिक विज्ञान में भी अपना लोहा मनवा चुकीं एलेना के 26 जुलाई 1648 को मौत हो गया।

फिलॉस्फी में प्राप्त की पीएचडी


एलेना ने एक विश्वविद्यालय में थियोलॉजी में डॉक्टरेट के लिए आवेदन किया लेकिन उन्हें रिजेक्ट कर दिया गया क्योंकि चर्च के अधिकारी एक स्त्री को ये अधिकार नहीं देना चाहते थे। पिस्कोपिय उस वक्त में पीएच.डी. डिग्री हासिल कर ली जब महिलाएं कम पढ़ी लिखी हुआ करती थीं। ऐसे में विश्व प्रसिद्ध हैं।