अमेरिका तक पहुंचने के लिए चीन ने किया नए न्यूक्लियर मिसाइल का परीक्षण !

शक्तिशाली देशों में से एक देश चीन भी है। बता दें कि हाल ही में चीन के कई शहरों के ऊपर से एक रहस्यमय प्रकाश गुजरता हुआ दिखाई दिया। जिसके बाद से ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि चीन ने एक सीक्रेट मिलिट्री मिशन के चलते हाइपरसोनिक न्यूक्लियर मिसाइल का परीक्षण किया है। जानकारों की मानें तो चीन ने जिस मिसाइल का परीक्षण किया है उसकी पहुंच अमेरिका तक हो सकती है।

loading...
बता दें कि जब चीन के देशों के ऊपर से ये रोशनी गुजरी तभी से चीन में सोशल मीडिया पर इस रोशनी को लेकर के कई प्रकार की चर्चाएं होने लगीं। इस रोशनी को लेकर के लोग तरह-तरह की बातें करने लगें। जहां कई लोगों ने इस रोशनी को यूएफओ की रोशनी तक बता डाला। हालांकि चीन एक ऐसा देश है जो अपने किसी भी मिसाइल परीक्षण के बारे में पहले से कोई भी घोषणा नहीं करता है। लेकिन रॉयटर्स के अनुसार, इस बार चीनी मिलिट्री ने मिसाइल परीक्षण के संकेत दिए हैं। चीनी मिलिट्री ने भी हाल ही में अपने वीबो अकाउंट से एक बैलिस्टिक मिसाइल लॉन्चर की तस्वीर शेयर करते हुए उस पर कैप्शन लिखा है कि- क्या आप इस संसार में यूएफओ के अस्तित्व पर विश्वास करते हैं?

वहीं, चीनी नेवी ने भी अपने वीबो अकाउंट पर पानी के अंदर से मिसाइल लॉन्च की एक तस्वीर शेयर की और पूछा कि क्या आप यूएफओ में विश्वास करते हैं ? वहीं सोशल मीडिया पर इस रोशनी को लेकर के लगाए जा रहे कयासों में कुछ लोगों का मानना है कि यह रोशनी अंडर वाटर मिसाइल टेस्ट के बाद दिखी है। वहीं, एक रक्षा वेबसाइट के मुताबिक, सोशल मीडिया पर सामने आई यह फोटो चीन के नेक्स्ट जेनरेशन बैलिस्टिक मिसाइल JL-3 की हो सकती है, जिसे पनडुब्बी से फायर किया गया होगा।

वहीं जिस मिसाइल के परीक्षण की बात लोग कर रहे हैं उस पर अमेरिका भी अपने नजरें बनाए हुए हैं। इससे पहले जब चीन के सैन्य अभियान पर अमेरिका ने एक सर्वे किया था जिसमें बताया गया था कि चीन वर्ष 2020 से नई मिसाइल का परीक्षण शुरू करेंगा। ऐसे में इस रोशनी को लेकर के सभी के मन में संशय बना हुआ है। हर कोई जानना चाहता है कि आखिरकार चीन किस मिसाइल की परीक्षण कर रहा है। हालांकि चीनी सरकार की ओर से इस बारे में अभी तक कोई आधिकारिक एलान नहीं की गई है और ना ही कुछ बताया गया है।