पश्चिम बंगाल: ममता बनर्जी से मिलने के बाद से डॉक्टरों ने खत्म की हड़ताल, बोला- बहुत जल्द से जल्द काम पर लौटेंगे..!

दरअसल पश्चिम बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा हड़ताली डॉक्टरों को राज्य के सरकारी अस्पतालों में सुरक्षा बढ़ाने के कदम उठाने का आश्वासन देने के बाद से डॉक्टरों ने हफ्ते भर से चल रहे हड़ताल को सोमवार रात को समाप्त कर दिया। लेकिन चिकित्सकों के संयुक्त मोर्चा के एक प्रवक्ता ने संवाददाताओं से यह कहा कि डॉक्टर काम पर लौटेंगे क्योंकि वह राज्य सरकार को वादे लागू करने के लिए कुछ समय देना चाहते हैं।

'मुख्यमंत्री के साथ हमारी मुलाकात और चर्चा सफल रही'

loading...
लेकिन नील रतन सरकार मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में शासकीय निकाय की बैठक के बाद से उन्होंने कहा,‘मुख्यमंत्री के साथ हमारी मुलाकात और चर्चा सफल रही और हर चीज पर विचार करते हुए हमें उम्मीद है कि सरकार चर्चा के मुताबिक मुद्दे का समाधान करेगी। बल्कि राज्य सचिवालय में हड़ताली डॉक्टरों के प्रतिनिधियों के साथ साथ बनर्जी की बैठक के कुछ समय बाद ये घोषणा हुई।

कि एनआरएस अस्पताल में पिछले सोमवार को एक रोगी की मौत के बाद से उसके रिश्तेदारों द्वारा दो चिकित्सकों की पिटाई करने से क्षुब्ध जूनियर डॉक्टर मंगलवार से हड़ताल पर चले गए और बैठक में बनर्जी ने पुलिस से कहा कि राज्य के सभी सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किए जाएं।

लेकिन डॉक्टरों के प्रतिनिधिमंडल ने बनर्जी को मेडिकल कॉलेज एवं अस्पतालों में होने वाली समस्याओं से अवगत कराया और ये भी कहा कि उन्हें अपनी सुरक्षा को लेकर खतरा हैं। बल्कि हड़ताल खत्म होने से सैकड़ों रोगियों को राहत मिली क्योंकि राज्य में एक हफ्ते से स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई थीं।

'हम जल्द से जल्द अपने काम पर लौटेंगे'

डॉक्टर फोरम के प्रवक्ता ने कहा,कि ‘हमने अपने संचालन समिति की बैठक में निर्णय किया कि हम जल्द से जल्द अपने काम पर लौटेंगे। परन्तु उन्होंने कहा,‘हमें समय देने के लिए हम मुख्यमंत्री को धन्यवाद देते हैं और हम राज्य सरकार को कुछ समय देना चाहते हैं ताकि जो वादे उन्होंने किए हैं उसे पूरा कर सकें। बल्कि हम आम आदमी का भी धन्यवाद करते हैं... हम उनसे माफी भी मांगते हैं जिन्हें काफी असुविधा हुई।

दरअसल जूनियर डॉक्टरों ने घायल डॉक्टर परिबाहा मुखोपाध्याय को देखने अस्पताल में जाने के लिए भी मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया और प्रवक्ता ने कहा,‘हम खुश हैं कि उन्होंने हमसे वादा किया था और वह अस्पताल में परिबाहा को देखने गईं।