पूरा गांव जिसे समझता था डायन, इस लड़के ने उसी को बनाया अपनी दुल्हन..!

संसारभर में पहले जितना अंधविश्वास नहीं रहा किन्तु आज भी ऐसे बहुत सारे गांव है जहां लोग अंधविश्वास पर यकीन करते हैं इसके साथ ही आज के वक़्त में कुछ ऐसे भी लोग हैं जो दूसरों को खुश रखना चाहते हैं तो आज हम आपको एक ऐसी घटना बताने जा रहे हैं जिससे सुनने के बाद आपको इंसानियत पर एक बार फिर से यकीन हो जाएगा।

loading...
ये बात है अफगानिस्तान का जलालाबाद गांव की इसी गांव में रहने वाला शख्स सलमान शहर से वापस लौट रहा था 9 वर्ष बाद सलमान शहर पैसे कमाने के लिए गया था और अपने परिवारों की जरूरत को पूरा करने के लिए, 9 साल बाद जब नौकरी से छुट्टी मिली तो सलमान वापस अपने गांव लौटा और बस स्टैंड पर उतरा किन्तु बस स्टैंड के पास ना ही कोई टैक्सी दिख रही थी ना ही कोई रिक्शा तो सलमान ने निर्णय किया कि वह अपने गांव पैदल ही जाएगा पूरी सामान को अपने कंधे पर रखकर गांव जाने का इतना उत्साह था कि वह पैदल बहुत किलोमीटर चलने के लिए तैयार था उसे तो बस अपने गांव को देखना था और गांव वालों से मिलना था और साथी उस लड़की से भी मिलना था जिससे वह बचपन मैं बहुत चाहता था किन्तु कभी अपने प्यार का इजहार नहीं कर पाया

गांव की उस लड़की का नाम अफसाना था और सलमान उसे काफी प्रेम करता था किन्तु उसे ये पता नहीं था कि वह लड़की अभी किस हालत में है ? क्या उसकी विवाह भी हो चुकी है ? या वह गांव में है या किसी के साथ शहद चली गई ? सलमान बिना इन सब के बारे में सोचें उस लड़की से मिलना चाहता था और लड़की के बारे में सोचते-सोचते सलमान अपने गांव पहुंच गया गांव पहुंचते ही सलमान ने देखा पीपल के पेड़ के नीचे एक सफेद साड़ी में लिपटी लड़की बैठी थी जिसे देख सलमान आश्चर्य हुआ क्योंकि वह लड़की वही थी जिससे सलमान प्यार करता था।

उस लड़की को इस हालत में देख सलमान की आंख में आंसू आ गए और सलमान उस लड़की के पास गया और पूछा अफसाना तुम ? उस लड़की के आंखों से आंसू बह रहे थे और पीछे से सलमान की मां आवाज लगाते हुए आई और सलमान को गले लगा ली और कहा इस डायन से दूर रहो इसने अपने पति को खा लिया है ये बात सुन सलमान को झटका लगा और उसकी मां कहीं चल जल्दी घर तुझे अब मौलवी से नजर उतरवानी पड़ेगी। घर पहुंचने के तुरंत बाद सलमान की मां सलमान को मस्जिद ले गई और मौलवी से बोली मौलवी जी इसकी नजर काट दो उस डायन ने छू लिया सलमान पूरी तरह से अचंभित था और उसने अपनी मां की ओर देखा और कहा – मां यह डायन-डायन बोलना बंद करो वह लड़की भी हमारी प्रकार एक इंसान है।

सलमान की मां अफसाना को बार-बार डायन कह रही थी और ये सुन सलमान को बहुत गुस्सा आया सलमान पढ़ा लिखा और शहर में बसा लड़का इन अंधविश्वास चीजों पर विश्वास नहीं करता और यह सब सुन उसे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगा, दरअसल अफसाना का पति फौज में था और तालिबानी आतंकियों से लड़ने के वक़्त शहीद हो गया तभी से अफसाना अकेले हैं।

शाम होते ही सलमान गांव के बाहर गया और पीपल के पेड़ के पास अफसाना से मिला और पूछा आखिर यह सब तुम्हारे साथ कैसे हुआ तुम तो पढ़ी लिखी समझदार हो किन्तु इन सब चीजों के बीच कैसे फंस गई अफसाना ने बताया कैसे उसका पति शहीद हो गया और तब से गांव वालों ने अफसाना को डायन घोषित कर दिया और अफसाना से कोई बात तक नहीं करता यह सब सुन सलमान के आंख में भी आंसू आ गए और सलमान ने तुरंत प्रशन पूछा तुम दूसरी विवाह क्यों नहीं कर लेती ? अफसाना ने इसका जवाब देते हुए कहा इस हालत में मेरे से कौन विवाह करेगा

यह सब बातें सुन सलमान भी उलझन में पड़ गया और गांव मैं आए पूरे 7 दिन बीत चुके थे और अब वक़्त था वापस शहर जाने का, शहर जाने वक्त सलमान की मां और उसके पिता उसे बस स्टैंड तक पहुंचाए लेकिन दूसरे रास्ते क्योंकि सलमान को शहर जाने वक़्त अफसाना का चेहरा ना दिख जाए फिर सलमान अकेला बस स्टैंड पर खड़ा बस का इंतजार कर रहा था किन्तु अफसाना का रोता हुआ चेहरा बार-बार उसके आंखों के सामने आ रहा था तो उसने वापस गांव जाने का निर्णय लिया और पीपल के पेड़ के पास।

 पहुंचते ही सलमान ने अफसाना से कहा 


मैं शहर वापस जा रहा हूं इस बात को सुन अफसाना ने शुभकामनाएं दी और थोड़े वक़्त के लिए दोनों चुप रहे लेकिन फिर सलमान ने पूछा क्या तुम मेरे साथ शादी करोगी ? ये सुन अफसाना के आंखों से आंसू आने लगे और उसने सलमान को गले लगा लिया सलमान ने अफसाना को कहा तुम्हारी एक नई जिंदगी शहर में इंतजार कर रही है, तुम मेरे साथ चलो, मैं तुम्हारा पूरी प्रकार से ध्यान रखूंगा थोड़ी देर बाद अफसाना सलमान के गले लग गई और दोनों एक दूसरे के साथ जिंदगी बिताने के लिए शहर पहुँच गए