एक साथ उठी पति-पत्नी और डेढ़ वर्ष के बच्चे की अर्थी तो वहां उपस्थित हर किसी की आंख हुई नम, इस जिद ने ली 3 जानें..!

हमीरपुर राठ के गुलाबनगर में मासूम बच्चे सहित दंपति के पोस्टमार्टम के बाद सोमवार देर शाम उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया। घर से उठीं तीन अर्थियां देख हर आंख में आंसू थे। मासूम बच्चे को दफन किया गया, जबकि दंपति को मुखाग्नि दी गई।

loading...
गुलाबनगर निवासी ब्रजेंद्र राठौर उसकी पत्नी गीता तथा डेढ़ वर्षीय पुत्र पार्थ के शव उनके घर से मिले थे। सुसाइड नोट में ब्रजेंद्र ने अपने पत्नी पर शक की बात कही थी। जिससे आहत होकर गीता ने फांसी लगाकर जान दे दी थी। पत्नी की मौत के बाद ब्रजेंद्र ने पार्थ की गला दबाकर हत्या कर खुद फांसी लगा ली थी।

पुलिस ने शवों का पोस्टमार्टम कराने के बाद शव परिजनों को सौंप दिए। सोमवार को ही देर शाम तीनों का अंतिम संस्कार कर दिया गया। घर से उठीं मासूम सहित तीन अर्थियां देख लोग अपनी आंखों के आंसू नहीं रोक पाए। मोहल्ले में प्रत्येक किसी के दिमाग में नन्हे पार्थ की छवि घूम रही थी।

मासूम बच्चे की दर्दनाक मौत का गम हर घर में देखा गया। लुधियातपुरा के मोक्षधाम में मासूम पार्थ को दफन कर दिया गया। जबकि ब्रजेंद्र व गीता को एक ही चिता पर रखकर अंतिम संस्कार किया गया। भाई रोहित ने बताया कि शनिवार सुबह वह घर से गया था।

तब तक सब कुछ ठीक था। शाम के वक्त गीता का भाई छानी निवासी राघवेंद्र भी आया था। जिसे ब्रजेंद्र ने अंदर नहीं आने दिया। अंदाजा लगाया कि शनिवार रात ही तीनों की मौतें हुईं हैं। कोतवाल मनोज शुक्ला ने बताया कि अभी पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं आई है। रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ जानकारी होगी।