एशिया का सबसे बड़ा रसोईघर इस जगह से कोई भी भूखा नहीं जाता, 40,000 हजार लोग रोज खाते हैं प्रसाद..!

यदि आप शिर्डी दर्शन करने जा रहे हैं तो यहां के साईं प्रसादालय जाना न भूलें। शिर्डी के मंदिर से कुछ ही क़दमों की दूरी पर उपस्थित ये किचन संसार के सबसे बड़े किचन में से एक है।

loading...
साई प्रसादालय में हर रोज 60 हजार से अधिक लोग खाना खाते हैं। एक बार में लगभग 3500 लोगों को खाना यहां परोसा जाता है। श्री साईं बाबा संस्थान के अनुसार, इसकी शुरुआत 19वीं सदी में की थी। यहां मान्यता है कि यहां खुद साईं बाबा चक्की पर गेहूं पीसकर लोगों को भोजन करवाते थे।

सबसे खास बात तो ये कि यहां सोलर एनर्जी से खाना बनाया जाता है। इसके लिए छत पर बड़ी-बड़ी सोलर छतरी लगाई गई हैं। इस किचन में रोज लगभग 6 हजार किलो आटा उपयोग किया जाता है। यहां रोटी बनाने की 5 मशीनें हैं जो तीन घंटे में 30 हजार रोटियां बनाती हैं।
प्रसादालय में बनने वाले भोजन की एक थाली की कीमत 10 रूपए है। जबकि, 10 वर्ष से भी कम आयु के बच्चों के लिए एक थाली की कीमत 4 रूपए है। वैसे तो यहां एक थाली की लागत तकरीबन 15 रूपए है।

इसके बावजूद यहां लोगों को थाली 10रुपए में परोसी जाती है। यहां गरीब और असहायों के लिए भोजन मुफ्त है। वहीं, वीआईपी हॉल में खाने के लिए 40 रूपए देने होते हैं। यदि आप साईं प्रसादालय में भोजन करवाना चाहते हैं तो इसकी भी सुविधा उपस्थित है। इसके लिए आपको पहले से बुकिंग करवानी होगी। श्री साईं बाबा संस्थान ट्रस्ट की वेबसाइट से आप भोजन डोनेशन स्कीम में बुकिंग कर सकते हैं। यहां मिनिमम 50 हजार और मैक्सिमम 3 लाख रूपए तक दान कर सकते हैं।