एम्स में मरीज के कान की सर्जरी के लिए दी गई 6 वर्ष बाद की date..!


अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में मरीजों को सर्जरी के लिए एक-दो नहीं छह-छह वर्ष इंतजार करने को कहा जा रहा है। ऐसा ही एक विषय कान-नाक गला (ईएनटी) विभाग में देखने को मिला जहां एक 20 वर्षीय युवती को कान की सर्जरी के लिए छह वर्ष बाद की दिनांक दी गई है।

loading...
दिल्ली में इग्नू से बीए सेकेंड ईयर की छात्रा 20 वर्षीय निशा को सुनने में परेशानी होती है। उनके दोनों कान के पर्दे में छेद है। पिछले कुछ वक़्त से उसका बहुत सरकारी और निजी अस्पतालों में उपचार चल रहा है। यहां उसे कहा गया कि वह जल्द सर्जरी करा ले। निशा का कहना है निजी अस्पताल में उसे सर्जरी का खर्च एक लाख रुपये तक बताया गया। इसके वजह वह एम्स गई और यहां दिखाया। 

10 अक्टूबर 2025 की दिनांक : निशा जब दोबारा एम्स में सर्जरी की डेट लेने गई तो सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर ने 10 अक्टूबर 2025 की दिनांक दे दी। इतनी लंबी तारीख देने के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि उनसे पहले कई गंभीर मरीज इलाज की कतार में हैं। एम्स में ईएनटी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर एस.सी शर्मा का कहना है कि जिन मरीजों की जान को खतरा है उनकी सर्जरी पहले की जाती है। अस्पताल में देशभर के मरीज आते हैं। मरीजों की ज्यादा संख्या की कारण से सर्जरी के लिए छह वर्ष तक की प्रतीक्षा सूची बनी हुई है। 

इन विभागों में भी लंबा इंतजार


एम्स के हृदय रोग विभाग में ज्यादातर पांच वर्ष बाद तक की तारीख मिलती है। इसके बाद ईएनटी विभाग में पांच से छह वर्ष तक की वेटिंग है। न्यूरो विभाग में भी दो से तीन वर्ष तक की तारीखें मिली हैं। जबकि, गंभीर रूप से रोग मरीजों के लिए जल्द सर्जरी कराने का वक़्त तय किया जाता है।