बाबा को मरते हुए देखने के लिए पहुंचे हजारों लोग, तय वक्त पर जब नहीं निकले प्राण तो गरम हो गई जनता..!

मध्यप्रदेश में बाबाओं का खूब बोलबाला है। बाबा लोगों से आस्था के नाम पर खिलवाड़ करते हैं। मध्यप्रदेश के बालाघाट में भी एक बाबा समाधि लेने के नाम पर खूब तमाशा किया। तय वक़्त के मुताबिक कबीर पंत के संत सुबोध दास उर्फ मंगल दास ने जब प्राण नहीं त्यागे तो लोगों ने खूब हूटिंग की।

loading...
दरअसल, संत सुबोध दास उर्फ मंगल दास ने घोषणा किया था कि मैं मंगलवार को सुबह 10 बजकर 15 मिनट पर प्राण त्यागने का घोषणा किया था। ये समाचार में जंगल में आग की प्रकार फैल गई। इसे देखने के लिए आसपास के गांवों से हजारों लोग जमा हो गए। बाबा निर्धारित वक़्त से पहले ही समाधि पर बैठ गए।

दिल थाम के देख रहे थे लोग

बाबा के घोषणा के बाद बालाघाट स्थित हट्टा के डुंडा सिवनी में हजारों लोग पहुंच गए थे। सभी दिल थामकर बाबा को मरते हुए देखने के लिए एक पैर खड़े थे। किन्तु 10 बजकर 15 मिनट हो जाने पर जब बाबा ने प्राण नहीं त्यागे तो लोग भड़क गए और हंगामा करने लगे। स्थिति को बिगड़ते देख अवसर पर पुलिस भी पहुंच गई।

ढोंगी बाबा


सुबोध दास उर्फ मंगल दास की इस घोषणा पर लोग हत्थे उखड़ गए थे। बाबा ने प्राण नहीं त्यागे तो लोगों ने भीड़ से नारेबाजी शुरू कर दी। यह बाबा ढोंगी है। इसके बाद कुछ लोगों ने बाबा के ऊपर पत्थर भी फेंकने शुरू कर दिए। तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए कई थानों की पुलिस अवसर पर पहुंच स्थिति को नियंत्रित किया। उसके बाद वहां से बाबा को निकाला गया। इस वक़्त पुलिस को हल्का बल भी इस्तेमाल करना पड़ा।

कौन है ये बाबा

समाधि लेने की बात करने वाले बाबा का पूरा नाम सुबोधदास उर्फ मंगलदास है। पिता छोटू दास है। इनका पता कबीर आश्रम 126 लोधीखेड़ा तपस्वी बाबा आश्रम सौंसर है। ये छिंदवाड़ा जिले के निवासी हैं। यह 10 जून से बालाघाट जिले के हट्टा थाना क्षेत्र के ग्राम डूंडासिवनी में सत्संग के लिए आया हुआ था।

मिर्ची बाबा ने भी किया था घोषणा


लोकसभा चुनाव के वक़्त कांग्रेस दावेदार दिग्विजय सिंह के समर्थन में भी मिर्ची बाबा ने समाधि लेने की बात कही थी। दिग्विजय सिंह के चुनाव हार के महीने बाद मिर्ची बाबा ने भोपाल के कलेक्टर से जल समाधि के लिए अनुमति मांगी। किन्तु प्रशासन ने उन्हें अनुमति नहीं दी तो उन्होंने भी खूब ड्रामा किया।