महाराष्ट्र में हुई थी राष्ट्रीय की पहली गे मैरिज, विवाह के जोड़े ने कहा था कमिटमेंट..!

भारत में गे विवाह



loading...
भारत में समलैंगिक संबंधों को कानूनी करार दिए जाने की बात अधिक पुरानी नहीं है। सेक्शन 377 पर पिछले साल ही सुप्रीम कोर्ट ने निर्णय देते हुए कहा था कि समलैंगिक संबंध अपराध की श्रेणी में नहीं हैं। इससे पहले जब 2017 में सुप्रीम कोर्ट ने सेक्शन 377 के सिलसिले में विचार किए जाने की मंज़ूरी दी थी और निर्णय आने में वक्त था, तब भारत में पहली गे विवाह हुई थी। आइए उस अनोखी और पहली गे विवाह के बारे में आपको बताते हैं कि कैसे एक आईआईटी ग्रेजुएट और टीचर ने विवाह की।

पवई आईआईटी से ग्रेजुएट हए 43 वर्षीय ऋषि ने पेशे से शिक्षक और विएतनाम मूल के विन्ह के साथ 30 दिसंबर 2017 को विवाह रचाई थी। दोनों ही अमेरिका में रह रहे थे। ऋषि को ग्रीन कार्ड मिल चुका था और विन्ह बचपन से ही अमेरिका में बस चुके थे। दोनों की मुलाकात एक डेटिंग वेबसाइट के ज़रिए हुई थी। दोनों के बीच 2017 में ही डेटिंग शुरू हुई और फिर दोनों ने विवाह का निर्णय किया।

विवाह में क्यों नहीं आई अड़चन : इस प्रश्नन का उत्तर एक पुरानी कहानी में छुपा था. अस्ल में जब 1997 के समय में ऋषि ने अपने परिवार के सामने अपने गे होने का पर्दाफाश किया था, तब परिवार को यह बात स्वीकारने में बहुत मुश्किल हुई थी। परिवार को पांच वर्ष लगे मंज़ूर करने में कि उनका बेटा गे है और उसी प्रकार ज़िंदगी जीना चाहता है. इसके बाद सब ठीक हुआ, यहां तक कि ऋषि और उसके परिवार ने सैन फ्रांसिस्को में 2007 में हुई गे प्राइड परेड में भी भाग लिया।

विन्ह के साथ रिश्ते के बारे में ऋषि ने मीडिया से कहा था कि वो इस रिश्ते को शादी नहीं बल्कि कमिटमेंट के तौर पर देखते हैं और उत्सव भी शादी का नहीं, परिवार और अपनों के बीच कमिटमेंट ज़ाहिर करने का था। कमिटमेंट कहें या विवाह, ये इच्छा ऋषि की थी कि वो विन्ह के साथ अपने देश, अपने शहर में पारंपरिक रूप से बंधन में बंधे. विन्ह ने हामी भरी और ऋषि के परिवार ने महाराष्ट्र के यवतमाल में रिसेप्शन का अयोजन किया जिसमें परिवार और समाज के बहुत लोग उपस्थित हुए।

इतने लोगों का सपोर्ट पाकर ऋषि ने भावुक होकर तब एक फेसबुक पोस्ट पर अपनी भावनओं का इज़हार करते हुए सभी को धन्यवाद दिया था और यवतमाल को उम्मीद से बढ़कर प्रगतिशील कहा था। विवाह के बाद ऋषि और विन्ह अमेरिका लौट गए और अपनी रोज़मर्रा की जीवन जीने के बीच दोनों ने किसी बच्चे को गोद लेने की इच्छा भी ज़ाहिर की थी।