करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले जालसाज जोड़े ने राजनीति में आने के लिए लगाये थे जुगाड़, इस जगह से लड़ने वाला थे चुनाव..!

केंद्र में कद्दावर नेताओं के रसूख के बल पर फिल्म सेंसर बोर्ड ( Film Censor Board ) और रेलवे उपभोक्ता परामर्शदात्री समिति में सदस्यता हासिल करने के बाद शातिर ठग दंपत्ती नितिन और शिखा गुप्ता राजनीति में पांव जमाने की जुगाड़ में थे। इसके लिए गिरफ्तार दंपत्ती ने एक राष्ट्रीय पार्टी में सवाईमाधोपुर से विधायक के टिकट की दावेदारी भी की थी, वहीं इस क्षेत्र के लोगों को प्रभावित करने के लिए विधानसभा चुनाव से पहले विशाल भंडारे का आयोजन भी किया था।

loading...
विधानसभा चुनाव में भी इनके सक्रिय होने की जानकारी सामने आने पर स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) शातिर ठग दंपत्ती के केंद्रीय नेताओं से संपर्क सूत्रों की कड़ी से कड़ी जोडऩे में जुट गई है।

चुनावी पोस्टर भी छपवाए


महानिदेशक (एटीएस-एसओजी) डा. भूपेंद्र सिंह यादव ने बताया कि केंद्र के विभिन्न विभगों में नौकरी दिलवाने के नाम पर करोड़ों की ठगी करने के विषय में गिरफ्तार नितिन और उसकी पत्नी शिखा गुप्ता ने जांच पड़ताल में बहुत चौंकाने वाली जानकारियां दी है, जिनकी तस्दीक की जा रही है।

जांच पड़ताल में सामने अया है कि नितिन ने विधानसभा चुनाव में सवाई माधोपुर से चुनाव लडऩे के लिए एक राष्ट्रीय पार्टी से टिकट लेने के विषय में भी केंद्रीय नेताओं के संपर्क में था। चुनाव लडऩे के लिए उसने बाकायदा पोस्टर भी छपवाकर सवाई माधोपुर में लगाए थे। इसके अतिरिक्त सवाई माधोपुर के गणेश मंदिर में विशाल भंडारा भी किया था। विधानसभा चुनाव में टिकट लेने के लिए उसने किस-किस नेता से संपर्क किया था, एसओजी इसकी जानकारी जुटा रही है।

मंत्रालय के फर्जी कार्ड और लेटर पैड बरामद


फिल्म बोर्ड के सदस्य अपने किसी भी दस्तावेज में आशोक चिन्ह का उपयोग नहीं कर सकते इसके बावजूद शिखा ने अशोक चिन्ह लगे विजिटिंग कार्ड और लेटर पैड बना रखे थे। इसके अतिरिक्त एसओजी ने नितिन से भी विधि मंत्रालय के प्रिंसिपल एडवाइजर के फर्जी दस्तावेज जब्त किए थे, जिनके बूते पर दंपत्ती युवकों को नौकरी लगवाने, बोर्ड से फिल्म का प्रमाण पत्र जारी करवाने के नाम पर ठगी करते थे।