अपनी बेवफा पत्नी से हार गया ये जांबाज फौजी, हंसता-खेलता घर हो गया बर्बाद

सीमा पर दुश्मन के दांत खट्टे करवाने वाला कोई भी फौजी मरत दम तक हार नहीं मानते लेकिन देश के एक फौजी के नाम दुश्मनों ने नहीं बल्कि उसके अपनों ने साजिश रची. वो कहते हैं ना दुनिया के सामने इंसान हार जाता है लेकिन अपनों से नहीं जीत पाता इसलिए अपनों से हारा वो फौजी निराश हो गया. अब वो अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रहा है. उसने कभी सोचा भी नहीं होगा कि उसकी जान के दुश्मन उसकी पत्नी ही है. फौजी पति अपनी बेवफा पत्नी से परेशान था ही लेकिन अब जिंदगी के लिए ऊपरवाले से दुआ कर रहा होगा ताकि वो उसे सबक सीखा सके. दुश्मन से नहीं अपनी बेवफा पत्नी से हार गया ये जांबाज फौजी, इस फौजी की दास्तां हर किसी को जाननी चाहिए..

दुश्मन से नहीं अपनी बेवफा पत्नी से हार गया ये जांबाज फौजी
loading...
पत्नी की बेवफाई का शिकार हुआ ये फौजी जिसे देर रात हालत बिगड़ने पर दिल्ली स्थित बेस हॉस्पिटल से उसे एम्स में रेफर कर दिया गया. अब वो जिंदगी और मौत के बीच लड़ रहा है, पत्नी ने उसके आगे कुछ ऐसा कर दिया कि उसका सुखी परिवार एक झटके में टूट गया. अपराध साबित होने पर उसकी पत्नी को पुलिस के हवाले कर दिया गया लेकिन अब उसके दो बच्चों पर मुसीबत नब गई है. फिलहाल पुलिस ने दोनों बच्चों को सेना को सौंप दिया है. ये घटना मेरठ के गंगानगर की है जहां रहने वाला एक फौजी सुधीर चौधरी के खिलाफ रची गई साजिस के तहत हुआ है जो एक धारावाहिक से कम नहीं है. इस ससनीखेज घटना के बाद फौजी के बच्चों को उनके परिजनों के साथ भेजा जाना था लेकिन फौजी ने मना कर दिया फिर पुलिस ने 9 जाट रेजीमेंट से संपर्क किया और वहां के जवान मेरठ पहुंचे और गंगानगर खाने को न्हें सौप दिया गया.
ये कहानी फौजी की पत्नी के लव स्टोरी से शुरु होती है जिसका अंत बहुत बुरा रहा. खुद पर खतरा मंडराता देखकर प्रेमी ने फौजी को जान से मारने की साजिश रची. इससे पहले 31 मार्च को फौजी का रिटायमेंट होता, आरोपी ने अपने दोस्त के साथ मिलकर फौजी पर हमला कर दिया और फौजी की हातल गंभीर हो गई. पुलिस ने फौजी पर हमले के मामले में पत्नी के साथ-साथ उसके प्रेमी और दोस्त अजय त्यागी को गिरफ्तार किया है जो मुबारिकपुर खेकड़ा बागपत को गिरफ्तार कर लिया इसके बाद तीनों आरोपियों को गंगानगर पुलिस स्टेशन पहुंचा दिया. पुलिस के मुताबिक, रोहित शर्मा की मां रामकथा धार्मिक पूजा के लिए जाया करती हैं और करीब 7 से 8 महीने से गंगानगर में एक सार्वजनिक स्तल पर रोहित अपनी मां के साथ जाता था. जहां पर फौजी की पत्नी भी कथा सुनने जाती थी और इसी दौरान फौजी की पत्नी की रोहित से मुलाकात हुई. दोनों ने एक दूसरे का मोबाइल नंबर एक्सचेंज किया और फिर ये सिलसिला शुरु हुआ.

ऐसे हुआ था इस पूरे मामले का खुलासा
फौजी की पत्नी और दो बच्चे गंगानगर एक किराए के मकान में रहते थे और फौजी पर हमला होने के बाद पुलिस ने आसपास के लोगों से पूछताछ की. उन लोगों ने बताया कि रात में अक्सर एक युवक वहां पर आता था जो काले रंग का बैग लिये रहता था जैसे कोई कंडक्टर हो. पुलिस ने जब इसकी जांच की तब पता चला कि वो युवर रोहित शर्मा और जब उसे पुलिस ने पकड़ा तो सारा राज खुला. रोहित ने इस प्लानिंग में अजय को शामिल किया और अजय ही अवैध पिस्टल लाया. पुलिस के मुताबिक पूछताछ में पता चला कि अजय त्यागी ने फौजी को गोली मारी और पुलिस को पिस्टल भी बरामद हुई. आरोपी अजय के स्कूटी नंबर भी पुलिस के बास है और मोबाइल की सीडीआर के जरिए पुलिस हमलावरों के पास पहुंची.

पत्नी और रोहित के संबंध के बारे में फौजी को जब पता चला तो उसने रोहित को सावधान किया था कि वो उसकी पत्नी से दूरी नबा ले. रोहित अपनी हरकतों से बाज नहीं आया और फौजी के ऊपर हमला करके अपनी हरकत को अंजाम दिया.