जब कोर्ट में सबूत के तौर पर पेश हुई सलमान खान की शादी की तस्वीर और जज साहब चौंक गए

बिलासपुर में रहते थे बसंतलाल. इनकी शादी हुई थी रानी देवी से. दोनों ने कई साल शादीशुदा जीवन बिताया. मगर 7 साल पहले यानी 2013 में बसंतलाल ने फांसी लगाकर सुसाइड कर लिया. अब शुरू होती है कहानी. दैनिक भास्कर में छपी खबर के मुताबिक़, बसंतलाल की मौत के बाद वही हुआ जो समाज में कई विधवा औरतों के साथ किया जाता है. 
loading...
ससुराल से निकाल दिया गया. रानी बेघर हो गईं. निकाला ये कहकर कि वे रानी को बसंत की पत्नी नहीं मानते. जबकि असल वजह ये थी कि वे नहीं चाहते थे कि बसंत की नौकरी उसकी मौत के बाद उसकी पत्नी को मिले. मगर शादी को इतनी आसानी से झुठलाया नहीं जा सकता था. रानी ने केस कर दिया. केस पहुंचा फैमिली कोर्ट में.
कोर्ट में बसंत के पिता ने रानी की दूसरी शादी की तस्वीर पेश कर दी. अंकल का प्लान काफी स्मार्ट था. उन्होंने रानी की शादी की पुरानी तस्वीर लेकर उसे एडिट करवाया. एडिट करने वाले से कहा होगा कि भाई पति का चेहरा बदल दे. जाने वो कौन खुराफाती था. या मूर्ख था. कि उसने पति के चेहरे की जगह सलमान खान का चेहरा लगा दिया.
इधर ससुरजी ने बहू की शादी तस्वीर पेश की. और उधर कोर्ट ने झट से उसे झुठला दिया. अगर जज फ़िल्में देखते होंगे तो पक्का उनकी हंसी भी छूट गई होगी. जाहिर सी बात है, फैसला बहू के पक्ष में आया है. लेकिन ससुरालवालों ने हार नहीं मानी है. उन्होंने हाई कोर्ट में अपील की है. शास्त्रों में इसे ही कॉन्फिडेंस कहा गया है.