बहला-फुसलाकर औरतों को कहीं भी पहुंचा सकता था ये शख्श, जानिये कैसे पकड़ में आया

संसू के सूबे से बहला-फुसलाकर लड़कियों व औरतों को दूसरे राज्यों में ले जाकर बेचने के आरोप में तामाड़ थाना क्षेत्र के मुचीडीह निवासी कार्तिक महतो को ग्रामीणों ने पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। ग्रामीणों ने उसे शनिवार को दोपहर करीब तीन बजे चौका मोड़ से धर दबोचा।
मामले में सीनी थाना के गोठानटाड निवासी पीड़िता उषा कालिंदी ने बताया की तीन माह पूर्व कार्तिक महतो ने उसकी ननद गीता कालिंदी को नौकरी दिलाने की बात बोल दूसरे जगह ले जाकर बेच दिया। जब भी उससे ननद से बात कराने के लिए कहा जाता तो वह ननद को कभी बेंगलुरु, कभी पंजाब तो कभी हरियाणा में होने की बात बोल बात टाल जाता था। ननद से बात नहीं होने पर एक षडयंत्र के तहत कार्तिक महतो को शनिवार को चौका मोड़ पर आने को कहा था। 
उषा कालिंदी ने बताया कि मैंने कार्तिक से नौकरी करने की बात कही थी। तब उसने कहा कि आपको तो बच्चे हैं उन्हें छोड़कर कहां जाइएगा। फिर उसने कहा कि तुम चौका मोड़ आ जाना तुम्हें हरियाणा में नौकरी लगवा दूंगा ओर बच्चों को किसी अनाथआश्रम में रखवा दूंगा। इस बीच जब कार्तिक शनिवार को चौका मोड़ पहुंचा तो उसे लोगों ने पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। 
इस संबंध में चौका थाना प्रभारी रतन कुमार सिंह ने बताया कि चूंकि यह मामला सीनी थाना से संबंधित है सीनी में ही मामला दर्ज किया जाएगा। वहीं दूसरी ओर, आरोपित कार्तिक महतो का कहना है कि यह सही है कि मैं झारखंड से लड़की-महिलाओं को दिल्ली, पंजाब, हरियाणा समेत दूसरे राज्यों में ले जाता हूं, जिसके एवज में कुछ रुपये मिलता है। मैं गीता कालिंदी को नहीं ले गया हूं और ना ही मैंने उसे बेचा है। गीता गुड़गाव में काम कर रही है यह पता है।