गजब का खेल, पैसे खातिर करा देते हैं एक्सीडेंट और फिर कंपनी को देना पड़ता है पैसा

जबलपुर शहर में बीमा क्लेम घोटाले में रोज नए मामले सामने आ रहे हैं। बेलबाग में एक ही स्थान पर एक जैसे 18 सडक़ हादसे की गुत्थी जांच अधिकारी सुलझा भी नहीं पाए कि इस घोटाले का पार्ट-टू शुरू हो गया। इस बार ये खेल ग्वारीघाट में सामने आया है। यहां भी बेलबाग में पदस्थ रहे एएसआई ने ही इन हादसों की कायमी की है। 
loading...
यहां दो हादसों में बीमा क्लेम का दावा लगाया गया है। दोनों हादसों में दर्ज एफआईआर का मजमून और घटना का विवरण तक एक समान है। सिर्फ नाम और टक्कर मारने वाली बाइक का नम्बर बदला है। एएसपी सिटी ने इस नए मामलों को भी पुराने केस में शामिल कर जांच में लिया है।

नर्मदा स्नान करने जाते समय हुआ था ये हादसा
जानकारी के अनुसार ग्वारीघाट थाना क्षेत्र में 17 व 22 मई को दो हादसे बताए गए हैं। दोनों हादसों में काफी समानताएं हैं। दोनों में साइकिल चलाने वाले ने खुद का पेशा मजदूर बताया है और दोनों ही हादसों के घायल नर्मदा स्नान करने जा रहे थे। इसी तरह की बातें बेलबाग में भी सभी 18 बीमा क्लेम के प्रकरण में भी है। यहां भी सभी घायल मजदूर और साइकिल से होना बताए हैं। इस बार बीमा घोटालाबाजों ने निजी अस्पताल की बजाय लोगों की एमएलसी विक्टोरिया से कराया है।

एक का भी एड्रेस सही नहीं मिला है 
सभी सडक़ हादसों में एक बात और चौंकाने वाली ये है कि किसी भी प्रकरण के पीडि़त का एड्रेस सही नहीं मिला। बीमा क्लेम लेने वालों ने एफआईआर में भी अधूरा पता दर्शाया है।