महिला ने गलत लेन पर चल रही बस को रोक दिया, जानिए क्या था कारण

भारत में सड़कों पर गलत लेन में ड्राइविंग करना एक बड़ी समस्या है। गलत लेन में ड्राइविंग करना न सिर्फ खतरनाक है बल्कि सड़क पर चल रही अन्य गाड़ियों के लिए भी दुर्घटना का कारण बनता है। गलत लेन में गाड़ी चलाने से सड़कों पर भारी जाम हो सकता है, जिससे घंटो तक ट्रैफिक जाम की स्तिथि बनी रहती है। आम तौर पर हम दोपहिया वाहनों से लेकर बड़ी बसों और ट्रकों को बिना किसी संकोच के गलत लेन में ड्राइविंग करते देख सकते हैं।
loading...
बिना डिवाइडर वाले सड़कों पर अक्सर लोग गलत साइड में गाड़ी चलाते देखे जा सकते हैं। गलत ड्राइविंग के कारण इन सड़कों की हालत सबसे खराब होती है। तेज गति से चल रही गाड़ियां धीमी गाड़ियों से आगे जाने के लिए गलत लेन में जाकर उन्हें ओवरटेक करते हैं, जिससे दूसरी लेन में चल रही गाड़ियों से टकराने की संभावना बढ़ जाती है।
कई बार ओवरटेकिंग के कारण गाड़ियां आपस में टकरा जाती हैं या संतुलन खोकर सड़क से बहार जाकर दूसरे राहगीरों घरों और दुकानों को नुक्सान पहुंचाती हैं। जैसा की हम सबने देखा है कि राज्य परिवहन की बसें सार्वजनिक सड़कों पर सबसे अधिक गति से चलाई जाती हैं, ऐसी बसों को यातायात नियम तोड़ते हुए काफी बार देखा गया है। कुछ राज्य सरकारों ने इन बसों की गति पर नियंत्रण रखने के लिए सड़कों पर स्पीड गवर्निंग डिवाइस भी लगा रखे हैं।
केरल से एक वीडियो सामने आई है जिसमें एक महिला स्कूटर चालक ने गलत लेन पर चल रही बस को रोक कर सही लेन में जाने पर मजबूर कर दिया। यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के साथ की न्यूज़ चैनलों पर भी दिखाया जा रहा है। वीडियो में दिख रहा है कि लाल रंग की स्कूटी सवार महिला सामने से गलत लेन पर आ रही बस के आगे रुक जाती है, नतीजतन बस ड्राइवर को बस बाईं ओर मोड़ कर सही लेन में लानी पड़ती है। 
यह बस केरल सड़क परिवहन निगम की बताई जा रही है। सोशल मीडिया पर महिला की हिम्मत की लोग तारीफ कर रहे हैं। यह पहली बार नहीं है की किसी दोपहिया वाहन चालक ने किसी बस को रोक कर सही लेन पर चलने को मजबूर किया है। दरअसल, पिछले साल ही बेंगलुरु के एक युवा ने गलत लेन पर चल रही बीएमटीसी की बस को रोक कर सही रस्ते पर चलने को मजबूर कर दिया था।