इन 3 लड़कों ने ऐसा क्‍या कि रातों रात बन गए हीरो, जानकर आप भी सलाम करेंगे

loading...
गोरखपुर | तीनों अभी 12वीं के छात्र हैं। नाम है अब्दुल नाजिम, अमन अहमद और कैफ खान। एमएसआइ इंटर कॉलेज बक्शीपुर में विज्ञान वर्ग के छात्र हैं। इन तीनों ने ऐसा काम किया यह तीनों देखते ही देखते शहर के लिए हीरो बन गए। लोगों की नजर में इनका ओहदा इतना बढ़ गया है कि सभी इनको सलाम कर रहे हैं।

बुजुर्ग को कराहता देख रुक गए तीनों
अब्दुल नाजिम, अमन अहमद और कैफ खान ग्रुप स्टडी करने के लिए शहर के घासीकटरा की ओर से गुजर रहे थे। चौराहे से थोड़ा पहले सड़क किनारे भीड़ देख रुक गए। लोगों को हटाते हुए आगे बढ़े तो देखा एक बुजुर्ग सड़क किनारे गिरे हुए हैं। कोई एंबुलेंस बुलाने को कह रहा था तो कोई पुलिस को लेकिन फोन कोई नहीं कर रहा था।

पुलिस से मदद नहीं मिली तो खुद पहुंचाया अस्‍पताल

अब्दुल नाजिम ने 108 नंबर पर फोन कर एंबुलेंस भेजने को कहा। कुछ देर तक एंबुलेंस नहीं आई तो तीनों साथियों ने बुजुर्ग को तत्काल अस्पताल पहुंचाने का निर्णय लिया। अपनी बाइक के बीच में बुजुर्ग को किसी तरह बैठाया और उंचवा स्थित एक अस्पताल पहुंचे। डॉक्टरों ने हालत गंभीर बताते हुए भर्ती करने को कहा। लेकिन जब पता चला कि बुजुर्ग लावारिस हैं तो इन्कार कर दिया। यहां से बुजुर्ग को फिर बाइक पर बैठाकर सभी जिला अस्पताल की इमरजेंसी पहुंचे।

डॉक्टर ने मृत बताया तो छलक पड़े आंसू

जिला अस्पताल की इमरजेंसी में डॉक्टरों ने परीक्षण कर बुजुर्ग का इलाज शुरू किया। इस बीच बुजुर्ग की नाक से खून भी आने लगा था। तकरीबन 15 मिनट के इलाज के बाद डॉक्टरों ने बुजुर्ग को मृत घोषित कर दिया। यह सुनते ही तीनों दोस्तों की आंखों में आंसू आ गए।

हमने अपना फर्ज निभाया
अब्दुल, अमन और कैफ कहते हैं कि उन्होंने अपना फर्ज निभाया। सड़क पर पड़े घायल को अस्पताल पहुंचाया। अब्बा और अम्मी हमेशा दूसरों की मदद की सीख देते हैं। दुख इस बात का है कि बुजुर्ग को हम बचा नहीं सके। कहते हैं इंसानियत से बड़ा कुछ नहीं होता है।