ऐसी क्या परेशानी थी जो शिक्षिक ने उठा लिया ये घातक कदम, जानिए पूरा मामला

नागदा जिले के भारत कॉमर्स प्राथमिक स्कूल की शिक्षिका शिल्पा  पति जितेंद्र गौड़ ने फांसी का फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली। घटना की जानकारी रविवार सुबह लगी जब महिला की सास ने चाय के लिए आवाज लगाई। काफी देर के बाद भी महिला कमरे से बाहर नही निकली तो सास शकुंतला ने कमरे का दरवाजा खटखटाया, लेकिन महिला नहीं निकली। 
loading...
शंका होने पर सास ने महिला के कमरे की खिड़की से झांक कर देखा तो महिला पंखे से लटकी हुई थी। यह नजारा देख सास घबरा गई और पड़ोसियों को बुलाया। बाद में मौके पर पुलिस को बुलाया गया। जिस कमरे में महिला ने फांसी लगाई थी वह अंदर से बंद था। पुलिस ने दरवाजा तोड़कर महिला को नीचे उतारा लेकिन जब तक उसकी सांसें थम चुकी थी। मामले में बिरलाग्राम पुलिस ने मर्ग कायम कर शव का पोस्टमार्टम करवाया है।

हिंदी की शिक्षिका थी 
मृतका शिल्पा भारत कॉमर्स इंग्लिश मीडियम प्रा. शाला में कक्षा 1 से 5 तक के बच्चों का हिंदी पढ़ाती थी। मृतका तीन वर्ष से स्कूल में शिक्षिका थी। महिला का पति ग्रेसिम में केमिस्ट है और शनिवार की शाम करीब 7 बजे निजामुद्दीन एक्सप्रेस से दिल्ली गया था। महिला पति एवं सास के साथ ग्रेसिम स्टाफ कॉलोनी में रहती थी7 सास ने बताया बेटे के साथ बहू और उसे भी दिल्ली अपने रिश्तेदार के यहां गृहप्रवेश में जाना था। बेटे ने तीनों का रिजर्वेशन भी करवा लिया था, लेकिन ऐनवक्त पर शिल्पा ने जाने से मना कर दिया और मुझे भी रोक लिया। इस कारण बेटे जितेंद्र को अकेला दिल्ली जाना पड़ा। बेटे के घर से निकलने के बाद बहू शाम 7 बजे कमरे में चली गई थी। सुबह देखा तो उसने फांसी लगा ली।

संतान नहीं होने से डिप्रेशन में थी 

जानकारी के मुताबिक शिल्पा एवं जितेंद्र की शादी को दस साल हो चुके हैं। बावजूद संतान नहीं थी। इसी बात को लेकर अक्सर वह तनाव में रहती थी। आशंका जताई जा रही है कि महिला ने इसी तनाव के चलते आत्महत्या कर ली है। हालांकि बिरलाग्राम थाना प्रभारी मनोहर मीणा ने मामले में मर्ग कायम कर जांच की बात कही है।