बदमाश बोले-बच्चे की कसम खा चिल्लाएगी नहीं, महिला ने कहा-जो चाहे ले लो पर हमे मारना मत

इंदौर शहर में रविवार देर रात तेजाजी नगर थाना क्षेत्र की बृजनयनी कॉलोनी में रिटायर जीएसटी अधीक्षक सीके पटले के घर चोरों ने धावा बोल दिया। बदमाश पटले दंपती को धमकाकर 5 लाख का माल उड़ा ले गए। घटना के बाद परिवार बुरी तरह भयभीत है। अचानक आहट सुनकर नींद खुली तो सामने तीन बदमाश कमरे की अलमारी का सामान बिखेर कर कुछ टटोल रहे थे। मुझे देख एक बदमाश पास आया। उसके हाथ में सरिया था। तीनों ने मुंह पर नकाब बांध रखा था। बदमाश ने कहा, चुप रहना, चिल्लाई तो तुम्हें व पति को मार देंगे। 
loading...
बदमाशों ने पूछा कितने बच्चे हैंं, कहां रहते हैं। इसके बाद बोले कि बच्चों की कसम खा कि चिल्लाएगी नहीं। जेवर व नकदी कहां रखे हैं। मेरे दोनों मंगलसूत्र, कान के टाप्स निकालकर देने को कहा। फिर कहा कि मुंह पर चादर ओढक़र सो जाओ। बार-बार बदमाश आवाज करने से मना करता रहा। मैंने हाथ जोडक़र कहा, जो चाहिए ले लो, बस मुझे मारना मत। तीनों आपस में कोई बात नहीं करते हुए एक-दूसरे को इशारे में समझा रहे थे।
इस दौरान अलमारी व अन्य सामान को बदमाशों ने खंगाला। इसमें रखे सोने व चांदी के जेवर, पांच हजार रुपए नकदी चुरा लिए। एक बदमाश कमरे में खड़ा रहा, दोनों साथी अन्य कमरों की तलाशी लेते रहे। पौन घंटे तक बदमाश घर में रहे। जाते समय बाहर से कमरे का दरवाजा बंद कर गए। इसके भी १५ मिनट तक मैं हिम्मत नहीं जुटा पाई। बाद में शोर मचाकर पति को उठाया।

जानिए क्या है पूरी वारदात
तेजाजी नगर इलाका स्थित ब्रजनयनी कॉलोनी में रिटायर जीएसटी अधीक्षक सीके पटले (63) व पत्नी शीला पटले (59) रहते हैं। उनकी बेटी आभा पति के साथ आयरलैंड में रहकर नौकरी करती है। बेटा विपुल पूणे में सॉफ्टवेयर इंजीनियर है। पटले करीब 10 साल से यहां रह रहे हैं। पटले ने बताया, रविवार रात करीब 3 बजे पत्नी शीला नीचे कमरे में सो रही थीं, मैं पहली मंजिल के कमरे में सो रहा था।
खिडक़ी की ग्रिल उखाडक़र घुसे बदमाश पत्नी को बंधक बनाकर घर से सोने व चांदी के जेवर और नकदी सहित करीब पांच लाख रुपए का सामान ले गए। बदमाशों ने मेरे कमरे में भी सामान तलाशा, लेकिन नींद नहीं खुली। पत्नी व मेरे कमरे का दरवाजा बाहर से बदमाश बंद कर भाग गए। पत्नी की आवाज सुनकर नींद खुली तो दरवाजा बंद था। बालकनी में जाकर शोर मचाया तो आसपास के लोग आए। उन्होंने पुलिस को सूचना दी।